Pari Digital Marketing

success behind you

Breaking

Saturday, 9 June 2018

Tally ERP 9 Basic Sikhe in Hindi

Tally 9 ERP Basic Sikhe Hindi Me
टैली 9 ERP बेसिक सीखे हिंदी
Tally sikhe Hindi me
जैसा की हम जानते है आज के समय में सारे काम कंप्यूटर और मोबाइल में आसानी से कर सकते है।  आप अपनी सारी जानकारी एक ही जगह देख सकते है।  इस के लिए Tally टैली अकाउंट , खाते , की जानकारी होना बेहद जरुरी है।  

चलिए जानते है की टैली क्या है 
टैली क्या है
Tally ERP 9 (Tally Enterprise Resource Planning 9)
किसी भी  प्रकार के कंपनी , वस्तु , पर्सनल आदि का लेखा जोखा अपने कंप्यूटर में रखना टैली के अंतर्गत आता है 
टैली एक एकाउंटिंग का कोर्स है , टैली 9 ERP एक सॉफ्टवेयर है।  जिसकी मदद से कंपनी , पर्सनल , प्राइवेट सेक्टर इंडस्ट्री के अकाउंट को मेन्टेन (Maintain ) कर सकते है 
टैली में हम किसी भी कंपनी या वस्तु , व्यक्तिगत फाइनेंसियल  लेन  देन का विवरण रखा जाता है।
Tally ERP 9 टैली का सॉफ्टवेयर वर्शन है जो हमें सम्पूर्ण बिज़नेस सलूशन प्रदान करता है

यदि हम बीते दिनों की बात करे तो लोग अपने लेन देन को विवरण किताबो और डायरी में लिखते थे , उन्हें कुछ समय बाद पढ़ना , डिटेल्स निकलना बहुत मुश्किल होता था , पर जब से टैली मार्किट में आया है रिकॉर्ड रखना बहुत ही आसान हो गया है।
टैली सीखने का उद्देश्य:
1. कॉमर्स और बिना कॉमर्स बैकग्रॉउंड वाले व्यक्तियो को कंप्यूटर एकाउंटिंग सीखना।
2. रोजगार प्राप्ति में सहायता करता है जिन्हे  का ज्यादा ज्ञान नहीं है।
टैली सीखने के स्तर:
बेसिक लेवल
इंटरमीडिएट लेवल
एडवांस लेवल
टैली में अकाउंट के  प्रकार:
व्यक्तिगत खाता :
ऐसे सभी खाते जो किसी व्यक्ति , संस्था,  फ्रॉम, बैंक या कंपनी से सम्बंधित होते है उन्हें हम पर्सनल अकाउंट की श्रेणी में रखते है।
वस्तुगत  खाता :
Real Account ऐसे सभी कहते जो वस्तुओं  से सम्बंधित होते है उन्हें हम वस्तुगत खाता के अंतर्गत रखते है।
जैसे माल खाता , Cash Account, Building Account ...
अवस्तुगत  खाता :
इसके अंतर्गत व्यापार के समस्त खर्चो और हानियों व् लाभ और आय से संबंधित खातों को रखा जाता है।
जैसे की सैलरी , मजदूरी , खर्चे , रेंट खाते आते है।
एकाउंटिंग में यूज़ होने वाले टर्म्स :
Dr. ( Debit ):
डेबिट से तात्पर्य किसी के नाम लिखने से होता है , यदि हम किसी को माल उधार बेचा है तो हम वह राशि किसी के नाम पर लिख देते है यहाँ किसी की नाम पर वह राशि लिख देना डेबिट कहलाती है।
Cr . ( Credit ):
क्रेडिट से तात्पर्य जमा करने से होता है यानि हमने किसी को उधार कोई माल भेजा है वह हमें वापस पैसे देता है तो हम उस व्यक्ति के नाम से उसके खाते में वह राशि क्रेडिट कर देते है यानि जमा कर देते है।
Accounting के नियम:
पर्सनल अकाउंट :
1. व्यापार में वस्तु पाने वाले व्यक्ति के खाते को (Dr.) करे
2. व्यापार में देने  पाने वाले व्यक्ति के खाते को (Cr.) करे
रियल अकाउंट :
1. व्यापार में आने वाली समस्त वस्तुओ के खाते को (Dr.) करे
2.व्यापार से जाने वाली समस्त वस्तुओ के खाते को (Cr.) करे
नॉमिनल अकाउंट :
1. व्यापार में समस्त खर्चो व हानियों को (Dr.) करे
2.  व्यापार के समस्त लाभ व आय को (Cr.) करे
बेसिक एंट्री फॉर प्रैक्टिस:
Example
1. राम ने 50,000  /- लगाकर व्यापार प्रारंभ किया
Cash  A/C Dr. 50,000 /- राम के पास से गया or To Capital 50,000 /- व्यापार में आया ( जहा To Represent Cr.)
2. 20000  का माल ख़रीदा
Purchase A/C Dr. 20000 /-   or To Cash 20000
ऐसे ही और एक्साम्प्ले को समझे।
Tally ERP 9 First Look:
जब आप टैली में ID , Password डाल कर लॉगिन करते है इस तरह ओपन होता है
Tally ERP 9 First Look

Company Creation:
जिस कंपनी की आप एकाउंटिंग करना चाहते है उसकी फाइल टैली सॉफ्टवेयर में बनानी पड़ती है जैसे हम वर्ड में बनाते है वैसे ही टैली में उस कंपनी की फाइल बनती है जिसे हम Company Creation  कहते है। 
फाइल बनाने के लिए सबसे पहले आप कीबोर्ड पर Alt +F1 प्रेस  करते  है। 
तो राइट साइड में गेटवे ऑफ़ टैली मेनू की जगह नया मेनू खुलता है 
जो ऐसा होता है 
इसके अंतर्गत 
सेलेक्ट कंपनी 
लिओगिन अस रिमोट यूजर 
क्रिएट कंपनी 
बैकअप 
रिस्टोर 
क्विट 
के ऑप्शन होते है 
क्रिएट कंपनी में एरो कीय से जाना है या फिर C को कीबोर्ड पर दबाये तो नया पेज ओपन होगा जिसमे कंपनी का नाम , अड्रेस , मेलिंग एड्रेस , कंट्री , स्टेट , मोबाइल no , आदि जानकारी भरनी है 
Company Creation
इसके बाद टैली maintain ऑप्शन पर जाना है जो जानकारी नहीं भरना चाहते है उसे Enter करके नेक्स्ट करे। 
Tally में अकाउंट दो तरह से Maintain होते है 
Account Only और Account With Inventory 
नए लोगो के लिए Account  Only  सेलेक्ट करे , फिनेंशल ईयर फिल करे फिर जानकारी को सेव करे कुछ ही समय में आपकी कंपनी बनकर तैयार हो जाएगी। 
कंपनी बनाने के वाद उसमे हमको लेजर्स बनाने होते है





2 comments:

Popular Posts

WooCommerce